For the best experience, open
https://m.chhattisgarhtak.in
on your mobile browser.
Advertisement Whatsapp share

छत्तीसगढ़ चुनाव: इन वादों ने बदला माहौल; चल गया बीजेपी-कांग्रेस का दांव?

03:28 PM Nov 30, 2023 IST | ChhattisgarhTak
Advertisement
छत्तीसगढ़ चुनाव  इन वादों ने बदला माहौल  चल गया बीजेपी कांग्रेस का दांव
छत्तीसगढ़ विधानसभा चुनाव 2023

Chhattisgarh Elections 2023- नवंबर में जिन पांच राज्यों में चुनाव हुए, उनमें से छत्तीसगढ़ एकमात्र राज्य है जहां दो चरणों में मतदान हुआ. इस बार, 76.31 प्रतिशत मतदान संतोषजनक रहा, जो 2018 के चुनावों में दर्ज 76.88 प्रतिशत से थोड़ा कम है. इस बीच लोग सांस रोककर 3 दिसंबर का इंतजार कर रहे हैं. ऐसे में उन मुद्दों की बात कर लेते हैं जिन्होंने प्रदेश के सियासी गणित को बदल कर रख दिया.

Advertisement

बीजेपी के लिए क्या काम आया?

महतारी वंदन योजना, जो प्रत्येक विवाहित महिला को 12,000 रुपये का वार्षिक वित्तीय आश्वासन देने का वादा करती है, इसने महिलाओं के वोटों का एक बड़ा हिस्सा हासिल करने में विपक्ष के लिए काम किया होगा. भाजपा ने अपने घोषणापत्र "मोदी की गारंटी 2023" में इस योजना का ऐलान किया था, जिसे केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने चरण के मतदान से कुछ दिन पहले 3 नवंबर को छत्तीसगढ़ के भाजपा मुख्यालय में जारी किया था.

Advertisement सब्सक्राइब करें

कांग्रेस ने दिया था इसका जवाब

कांग्रेस ने 5 नवंबर को अपना घोषणा पत्र "भरोसे का घोषना पत्र" जारी किया, जिसमें महतारी न्याय योजना सहित 20 ठोस वादे शामिल हैं, जिसके तहत सभी आय वर्ग की महिलाओं को प्रति रसोई गैस सिलेंडर 500 रुपये की सब्सिडी दी जाएगी. ऐसे महिला-केंद्रित वादों के बावजूद, पहले चरण के मतदान के बाद, कांग्रेस भाजपा की महतारी वंदन योजना के जवाब में सामने आई और गृह लक्ष्मी योजना की घोषणा की, जिसके तहत पार्टी ने राज्य भर में सभी महिलाओं को 15,000 रुपये की सहायता देने का वादा किया.

हालांकि भाजपा के वादे ने पार्टी को पहले चरण में मजबूत बढ़त दी होगी जिसे कांग्रेस दूसरे चरण में भुनाना चाहती थी.

बीजेपी को मिला होगा इसका फायदा?

पहली बार मतदान करने वाले और छत्तीसगढ़ में रोजगार के अवसरों की तलाश में जुटे युवाओं ने मोदी फैक्टर और दो साल में एक लाख खाली सरकारी पदों को भरने के वादे के कारण भाजपा के पक्ष में मतदान किया होगा. कथित छत्तीसगढ़ लोक सेवा आयोग घोटाले के कारण कांग्रेस के युवा वोट बैंक में सेंध लगने से भाजपा को यह हिस्सा मिलने की संभावना हो सकती है.

कांग्रेस के लिए क्या काम आया?

कांग्रेस खुद को किसान समर्थक पार्टी के रूप में स्थापित करने में सफल रही है. पार्टी ने प्रति एकड़ 20 क्विंटल धान 3,200 रुपये में खरीदने की घोषणा की - और इस योजना से 24 लाख किसानों को लाभ होने की संभावना है. इस योजना के तहत धान और मक्का की खरीदी भारत सरकार द्वारा घोषित समर्थन मूल्य पर की जायेगी. 1 नवंबर, 2023 से 31 जनवरी, 2024 तक किसानों से खरीफ धान नकद में खरीदा जाएगा और समर्थन मूल्य पर जोड़ा जाएगा.

भाजपा ने भी किसानों पर खेला दांव

कांग्रेस पर पलटवार करने और किसानों के वोटों को प्रभावित करने के लिए, भाजपा ने भी बड़ा दांव खेला. पार्टी ने वादा किया कि कृषि उन्नति योजना के तहत किसानों से 3,100 रुपये प्रति क्विंटल की दर से 21 क्विंटल प्रति एकड़ धान की खरीद की जाएगी.

नफा-नुकसान

पिछले पांच वर्षों में किसानों के प्रति कांग्रेस के लगातार काम ने 2023 के चुनावों में पार्टी के लिए सकारात्मक काम किया होगा. विशेषज्ञों का मानना है कि कांग्रेस पार्टी का 90 में से कम से कम 75 सीटें हासिल करने का अनुमान विफल हो सकता है और 2018 के विपरीत, किसी भी प्रमुख पार्टी के पक्ष में कोई लहर नहीं दिख रही है. साथ ही, 2018 से दूर रहने के बाद एक मजबूत मुख्यमंत्री चेहरे के साथ नहीं लड़ने वाली भाजपा की सत्ता में आने की संभावना को नुकसान हो सकता है.

इसे भी पढ़ें- CG Election 2023 Exit Poll: छत्तीसगढ़ में बनेगी किसकी सरकार, मिलेगा एग्जिट पोल से इशारा

Advertisement
छत्तीसगढ़ की लेटेस्ट खबरों से अपडेट रहने के लिए छत्तीसगढ़ Tak पर क्लिक करें.
Tags :
Advertisement
×

.

tlbr_img1 होम tlbr_img2 वीडियो tlbr_img3 शॉर्ट्स tlbr_img4 वेब स्टोरीज