For the best experience, open
https://m.chhattisgarhtak.in
on your mobile browser.
Advertisement Whatsapp share

Chhattisgarh Politics: मंत्री बनने से चूक गए तीन दिग्गज, लेकिन लोकसभा चुनाव में मिल गई बड़ी जिम्मेदारी

08:32 PM Jan 16, 2024 IST | ChhattisgarhTak
Advertisement
chhattisgarh politics  मंत्री बनने से चूक गए तीन दिग्गज  लेकिन लोकसभा चुनाव में मिल गई बड़ी जिम्मेदारी
बीजेपी विधायक राजेश मूणत, साभार- राजेश मूणत फेसबुक

Loksabha Election: छत्तीसगढ़ में विधानसभा चुनाव का रण जीतने के बाद अब बीजेपी लोकसभा चुनाव (Loksabha Election) की तैयारी में जुट गई है. छत्तीसगढ़ की 11 सीटों के लिए रोडमैप बनाकर अब काम किया जा रहा है. इसी कड़ी में प्रदेश की 11 लोकसभा सीटों को 3 क्लस्टर में बांट कर नेताओं को जिम्मेदारी दी है. खास बात ये है कि साय सरकार के कैबिनेट में जिन दिग्गजों को जगह नहीं मिल पाई है, उन्हीं में से 3 बड़े चेहरों को लोकसभा चुनाव के लिए जिम्मेदारी सौंपी गई है.

Advertisement

रायपुर क्लस्टर के तहत दुर्ग, राजनांदगांव, जांजगीर-चांपा की सीट शामिल है. इस क्लस्टर का संयोजक पूर्व मंत्री और विधायक राजेश मूणत (Rajesh Munat) को बनाया गया है. वहीं बिलासपुर क्लस्टर के तहत बिलासपुर, कोरबा, रायगढ़ और सरगुजा लोकसभा सीट शामिल है. इसके लिए पूर्व मंत्री और विधायक अमर अग्रवाल (Amar Agarwal) संयोजक बनाया गया है. इसके अलावा बस्तर क्लस्टर में बस्तर, कांकेर व महासमुंद क्षेत्र के लिए पूर्व मंत्री और विधायक अजय चंद्राकर (Ajay Chandrakar) को जिम्मेदारी दी गई है.

क्या है वजह?

बता दें कि छत्तीसगढ़ में बीजेपी सरकार में वित्त विभाग, नगरीय प्रशासन और हेल्थ जैसे बड़े विभागों की जिम्मेदारी संभाल चुके अमर अग्रवाल को साय कैबिनेट में जगह नहीं मिल पाई. उनके अलावा रमन सरकर में आवास, पर्यावरण और PWD जैसे विभागों में मंत्री रहे राजेश मूणत को भी मंत्रिमंडल में शामिल नहीं किया गया है.वहीं पंचायत और स्वास्थ्य विभाग समेत संसदीय कार्य का जिम्मा संभाल चुके अजय चंद्राकर भी मंत्रिमंडल में जगह पाने से चूक गए. ऐसे में इन दिग्गजों को क्लस्टर प्रभारी बनाकर पार्टी ने लोकसभा चुनाव के लिए भरोसा जताया है.

Advertisement सब्सक्राइब करें

छत्तीसगढ़ की राजनीति में बीजेपी सत्ता सरकार के प्रमुख चेहरे रहे इन दिग्गजों का विवादों से भी नाता रहा है. समय-समय पर इन नेताओं के बिगड़े बोल से ना केवल आम जनमानस को बल्कि पार्टी कार्यकर्ताओं ने इनकी नाराजगी झेली है. अब बीजेपी ने ऐसे नेताओं को सरकार में जगह ना देकर पार्टी संगठन में काम लेना चाहती है.

लोकसभा चुनाव में रहेगा बड़ा रोल

छत्तीसगढ़ में 11 की 11 लोकसभा सीटों को जीतने के लिए ही बीजेपी प्लान तैयार कर रही है. विधानसभा चुनाव में बुरी हार के बाद भी 2019 के लोकसभा चुनाव में छत्तीसगढ़ की 11 में से 9 सीटों पर बीजेपी बड़ी लीड से जीतने में सफल रही है. अब मिशन 2024 में तो बीजेपी के पास छत्तीसगढ़ में सत्ता सरकार का दमखम है. यही वजह है की इस बार 11 लोकसभा सीटों के लिए रणनीति तैयार की जा रही है. जनजातिय बाहुल संसदीय क्षेत्र जैसे बस्तर, कोरबा, सरगुजा और जांजगीर-चांपा को लेकर अलग से प्लान किया जा रहा है..

दावेदारी के लिए लगी कतार

इधर बीजेपी दफ्तर में टिकट पाने के लिए संभावित प्रत्याशियों का बायोडाटा पहुंचने का दौर भी तेज हो गया है. अलग-अलग क्षेत्रों से जनप्रतिनिधि अपनी दावेदारी मजबूत करने में लगे हैं. बीजेपी की तैयारी के पीछे माना जा रहा है कि लोकसभा चुनाव के लिए प्रदेश में नए चेहरों को तरजीह दी जा सकती है, वहीं कुछ सीटों पर पुराने सांसद फिर से मैदान में उतारे जा सकते हैं.

रायपुर से अजय सोनी की रिपोर्टे

इसे भी पढ़ें- Rajesh Munat Exlusive Interview: क्या लोकसभा चुनाव लड़ेंगे राजेश मूणत? क्यों कही झाड़ू लगाने की बात!

Advertisement
छत्तीसगढ़ की लेटेस्ट खबरों से अपडेट रहने के लिए छत्तीसगढ़ Tak पर क्लिक करें.
Tags :
Advertisement
×

.

tlbr_img1 होम tlbr_img2 वीडियो tlbr_img3 शॉर्ट्स tlbr_img4 वेब स्टोरीज