For the best experience, open
https://m.chhattisgarhtak.in
on your mobile browser.
Advertisement Whatsapp share

छत्तीसगढ़ में विष्णु राज: पहली बार विधायक बने साव-शर्मा, लेकिन इन खूबियों के चलते बन गए डिप्टी CM

08:10 PM Dec 13, 2023 IST | ChhattisgarhTak
Advertisement
छत्तीसगढ़ में विष्णु राज  पहली बार विधायक बने साव शर्मा  लेकिन इन खूबियों के चलते बन गए डिप्टी cm
छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री विष्णुदेव साय, उप मुख्यमंत्री अरुण साव और विजय शर्मा

Chhattisgarh Deputy CMs Arun Sao and Vijay Sharma Profile- छत्तीसगढ़ भाजपा अध्यक्ष अरुण साव (Arun Sao) और महासचिव विजय शर्मा (Vijay Sharma) ने बुधवार को उपमुख्यमंत्री पद की शपथ ली.  दोनों नेता पहली बार विधायक बने हैं हालांकि वे अपने राजनीतिक करियर में संगठनात्मक पदों पर रहे हैं और आरएसएस के करीबी माने जाते हैं.

Advertisement

दोनों अलग-अलग सामाजिक पृष्ठभूमि से आते हैं - साव एक प्रमुख ओबीसी नेता हैं जबकि शर्मा ब्राह्मण हैं. 2000 में गठन के बाद यह पहली बार है कि राज्य में दो डिप्टी सीएम बने हैं.

बता दें कि भाजपा ने छत्तीसगढ़ में 90 में से 54 सीटें जीतीं, जिससे कांग्रेस की संख्या 2018 में जीती गई 68 सीटों में से 35 पर आ गई. गोंडवाना गणतंत्र पार्टी एक सीट जीतने में सफल रही.

Advertisement सब्सक्राइब करें

सीएम की रेस में रहे साव...

राज्य में भाजपा के प्रभावशाली प्रदर्शन ने साव को सुर्खियों में ला दिया, जिन्हें मुख्यमंत्री पद के संभावित उम्मीदवार के रूप में भी देखा जा रहा था.

वकील से नेता बने साव को एक गैर-विवादास्पद और तटस्थ नेता के रूप में देखा जाता है, जिनका भाजपा की राज्य इकाई में किसी भी कैंप से कोई संबंध नहीं है. उनका व्यक्तित्व विनम्र लेकिन आक्रामक है.

साव ने लोरमी विधानसभा सीट पर अपने निकटतम प्रतिद्वंद्वी कांग्रेस के थानेश्वर साहू को 45,891 वोटों से हराया.

कब चर्चा में आए साव?

2019 के संसदीय चुनाव में चुनावी राजनीति में अनुभव की कमी वाले साव ने मोदी लहर पर सवार होकर बिलासपुर लोकसभा सीट 1.41 लाख वोटों के अंतर से जीती थी.

विधानसभा चुनाव से एक साल पहले, 54 वर्षीय सांसद को प्रमुख आदिवासी नेता विष्णु देव साय की जगह छत्तीसगढ़ भाजपा इकाई का अध्यक्ष बनाया गया था, जिन्होंने बुधवार को यहां प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की उपस्थिति में मुख्यमंत्री पद की शपथ ली.

प्रभावशाली साहू ओबीसी समुदाय से आते हैं साव

साव, जो प्रभावशाली साहू ओबीसी समुदाय से हैं, निचले कैडर के बीच अपने मजबूत आधार के लिए जाने जाते हैं और राजनीतिक विशेषज्ञों द्वारा उन्हें विधानसभा चुनाव से पहले पार्टी कार्यकर्ताओं को एकजुट करने के लिए राज्य भाजपा प्रमुख के पद के लिए एक अच्छा विकल्प माना जाता था.

राजनीतिक विशेषज्ञों के अनुसार, ओबीसी चेहरे को प्रमुख पद पर पदोन्नत किया गया क्योंकि साहू समुदाय राज्य की आबादी का एक बड़ा हिस्सा है और 90 सदस्यीय विधानसभा में 51 सामान्य सीटों पर चुनाव परिणामों को काफी प्रभावित करता है.

बघेल के जवाब में साव पर बीजेपी का दांव

इस कदम को कांग्रेस के सबसे बड़े ओबीसी चेहरे और पूर्व सीएम भूपेश बघेल के जवाब के रूप में भी देखा गया, जो खुद को "धरती-पुत्र" के रूप में पेश करते हैं.

पेशे से वकील, साव पहले 1990 से राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (आरएसएस) की छात्र शाखा अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद (एबीवीपी) और अन्य संगठनों के सदस्य थे. वह एक आरएसएस कार्यकर्ता भी थे.

साव ने कथित घोटालों को लेकर भूपेश बघेल सरकार को निशाना बनाने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई थी और खुले तौर पर इस साल बस्तर में उनकी पार्टी के कार्यकर्ताओं की माओवादियों द्वारा “टारगेट किलिंग” की साजिश रचने का आरोप लगाया था.

शर्मा ने इसलिए मारी बाजी...

दूसरे डिप्टी सीएम विजय शर्मा ब्राह्मण हैं और हिंदुत्व के मुखर समर्थक हैं. हाल के चुनावों में, उन्होंने कवर्धा निर्वाचन क्षेत्र में प्रभावशाली कांग्रेस नेता और तत्कालीन मंत्री मोहम्मद अकबर को 39,592 वोटों से हराया.

गौरतलब है कि शर्मा (50) को अक्टूबर 2021 में कबीरधाम जिले के कवर्धा शहर में सांप्रदायिक हिंसा के सिलसिले में दंगे के आरोप में गिरफ्तार किया गया था.

इस घटना ने बना दिया फायर ब्रांड

कवर्धा में एक सड़क से धार्मिक झंडे हटाने को लेकर सांप्रदायिक झड़प हो गई थी. घटना के दो दिन बाद कुछ दक्षिणपंथी संगठनों ने विरोध रैली निकाली जिसके दौरान हिंसा भड़क उठी.

पुलिस ने हिंसा के सिलसिले में भाजपा सांसद संतोष पांडे, पूर्व सांसद अभिषेक सिंह और विजय शर्मा को दंगा भड़काने और अन्य आरोपों में एफआईआर में नामित किया था. शर्मा को गिरफ्तार कर लिया गया और बाद में जमानत पर रिहा कर दिया गया.

छात्र राजनीति से हुई थी एंट्री

शर्मा ने अपने राजनीतिक करियर की शुरुआत एबीवीपी की कवर्धा शहर इकाई के संयुक्त संयोजक के रूप में की थी.

2004 से 2010 तक, उन्होंने भारतीय जनता युवा मोर्चा (भाजयुमो) की कबीरधाम जिला इकाई का नेतृत्व किया. उन्होंने 2016 से 2020 तक भाजयुमो की छत्तीसगढ़ इकाई के अध्यक्ष के रूप में कार्य किया. 2020 में, उन्हें कबीरधाम जिला पंचायत के सदस्य के रूप में चुना गया.

इसे भी पढ़ें-  Chhattisgarh CM Oath Ceremony: छत्तीसगढ़ में विष्णु राज; सीएम बन गए साय, साव-शर्मा ने ली डिप्टी सीएम पद की शपथ

Advertisement
छत्तीसगढ़ की लेटेस्ट खबरों से अपडेट रहने के लिए छत्तीसगढ़ Tak पर क्लिक करें.
Tags :
Advertisement
×

.

tlbr_img1 होम tlbr_img2 वीडियो tlbr_img3 शॉर्ट्स tlbr_img4 वेब स्टोरीज