For the best experience, open
https://m.chhattisgarhtak.in
on your mobile browser.
Advertisement Whatsapp share

छत्तीसगढ़ चुनाव: दोपहर 1 बजे तक 37.87 प्रतिशत वोटिंग; मस्तूरी और रायगढ़ के गांवों में मतदान का बहिष्कार

03:38 PM Nov 17, 2023 IST | ChhattisgarhTak
Advertisement
छत्तीसगढ़ चुनाव  दोपहर 1 बजे तक 37 87 प्रतिशत वोटिंग  मस्तूरी और रायगढ़ के गांवों में मतदान का बहिष्कार
छत्तीसगढ़ चुनाव 2023

Chhattisgarh 2nd phase Elections  voter turnout- पुलिस और अर्धसैनिक बलों की कड़ी सुरक्षा के बीच शुक्रवार को छत्तीसगढ़ चुनाव के दूसरे चरण के लिए 70 विधानसभा क्षेत्रों में दोपहर 1 बजे तक 37.87 प्रतिशत मतदान दर्ज किया गया. दूसरे चरण का चुनाव सीएम बघेल, उनके डिप्टी सिंहदेव, आठ राज्य मंत्रियों और चार संसद सदस्यों जैसे राजनीतिक दिग्गजों के चुनावी भाग्य का फैसला करेगा.

Advertisement

गरियाबंद जिले के नक्सल प्रभावित बिंद्रानवागढ़ सीट के नौ मतदान केंद्रों को छोड़कर, जहां सुरक्षा कारणों से मतदान सुबह 7 बजे शुरू हुआ, 70 निर्वाचन क्षेत्रों में मतदान सुबह 8 बजे शुरू हुआ और शाम 5 बजे समाप्त होगा.

दोपहर एक बजे तक 70 निर्वाचन क्षेत्रों में 37.87 प्रतिशत मतदान हुआ.

Advertisement सब्सक्राइब करें

सीएम ने कहा- पाटन में एकतरफा मुकाबला

मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने दुर्ग जिले के अपने विधानसभा क्षेत्र पाटन के कुरुदडीह गांव में वोट डाला. छत्तीसगढ़ के राज्यपाल विश्वभूषण हरिचंदन और उनकी पत्नी ने सिविल लाइंस रायपुर में अपना वोट डाला.

अपना वोट डालने से पहले पत्रकारों से बात करते हुए, बघेल ने कहा कि उनकी पार्टी 75 से अधिक सीटें (90 सदस्यीय विधानसभा में) जीतेगी और पाटन खंड में एकतरफा मुकाबला है.

बघेल के क्षेत्र पाटन में भाजपा ने उनके दूर के भतीजे और पार्टी सांसद विजय बघेल को मैदान में उतारा है. जनता कांग्रेस छत्तीसगढ़ (जे) के प्रदेश अध्यक्ष और पूर्व मुख्यमंत्री अजीत जोगी के बेटे अमित जोगी की पाटन में उम्मीदवारी ने मुकाबले में एक नया आयाम जोड़ दिया है.

पाटन में संभावित त्रिकोणीय मुकाबले के बारे में पूछे जाने पर, बघेल ने इनकार किया और कहा कि यह लोग और किसान हैं जो (उनकी ओर से) चुनाव लड़ रहे हैं और लड़ाई एकतरफा है.

इन नेताओं ने डाला वोट

उपमुख्यमंत्री टी एस सिंह देव (अंबिकापुर) और राज्य मंत्री - रवींद्र चौबे (साजा सीट), अनिला भेड़िया (डौंडीलोहारा), अमरजीत भगत (सीतापुर) और जयसिंह अग्रवाल (कोरबा) और विधानसभा अध्यक्ष चरणदास महंत (सक्ती), जो कांग्रेस से हैं वोट डालने वालों में अपने-अपने क्षेत्र के उम्मीदवार भी शामिल थे.

राज्य भाजपा प्रमुख और सांसद अरुण साव, जो लोरमी सीट से पार्टी के उम्मीदवार हैं,  उन्होंने बिलासपुर क्षेत्र में अपना वोट डाला. भाजपा सांसद और केंद्रीय मंत्री रेणुका सिंह, जो भरतपुर-सोनहत सीट (कोरिया और मनेंद्रगढ़-चिरमिरी-बैकुंठपुर (एमसीबी) जिलों में फैली हुई) से पार्टी की उम्मीदवार हैं, उन्होंने सूरजपुर जिले के प्रेमनगर खंड में अपने मताधिकार का प्रयोग किया.

राज्य की मुख्य निर्वाचन अधिकारी (सीईओ) रीना बाबा साहेब कंगाले ने राजधानी के धरमपुरा में एक मतदान केंद्र पर अपना वोट डाला.

रायगढ़ और मस्तूरी के गांवों में वोटिंग का बहिष्कार

इस बीच, रायगढ़ जिले के थेनथागुड्डी गांव के निवासी मतदान केंद्र पर नहीं आए. उन्होंने यह आरोप लगाते हुए मतदान का बहिष्कार करने का फैसला किया कि उनके गांव में सड़कों का निर्माण नहीं किया गया है.

पत्रकारों से बात करते हुए स्थानीय निवासी सोनू प्रधान ने कहा, ''गांव में 330 से अधिक मतदाता हैं और सभी ने अपने मताधिकार का प्रयोग नहीं करने का फैसला किया है. हम पहले ही कह चुके हैं कि जब तक गांव में सड़क निर्माण की हमारी मांग पूरी नहीं हो जाती , हम चुनावी प्रक्रिया में हिस्सा नहीं लेंगे.”

इसी तरह बिलासपुर जिले के मस्तूरी खंड में मानिकपुर ढेंका ग्राम पंचायत के निवासियों ने भी क्षेत्र में सड़क निर्माण सहित विकास की कमी के समान मुद्दों पर वोट देने से इनकार कर दिया है.

बिलासपुर कलेक्टर अवनीश शरण ने कहा कि मामले की जानकारी मिलने पर, स्थानीय सब डिविजनल मजिस्ट्रेट (एसडीएम) ग्रामीणों से चर्चा करने के लिए गांव गए हैं और इस संबंध में अधिक जानकारी की प्रतीक्षा है.

इसे भी पढ़ें- Chhattisgarh Election: इन 15 सीटों से तय होगी छत्तीसगढ़ की सत्ता, कांग्रेस के लिए चुनौती!

Advertisement
छत्तीसगढ़ की लेटेस्ट खबरों से अपडेट रहने के लिए छत्तीसगढ़ Tak पर क्लिक करें.
Tags :
Advertisement
×

.

tlbr_img1 होम tlbr_img2 वीडियो tlbr_img3 शॉर्ट्स tlbr_img4 वेब स्टोरीज